दिल्ली में गेस्ट टीचरों का धरना

विदित रहे कि पूर्व के वर्षों में गेस्ट टीचर्स का कॉन्ट्रैक्ट मई 10 तक चलता रहा है परंतु इस बार गेस्ट टीचर्स की सेवा फरवरी मे ही समाप्त कर दी गयी और गेस्ट टीचर्स का रिन्यूअल भी नही हुआ, जिस कारण लगभग 25000 गेस्ट टीचर्स बेरोज़गार हो गए हैं।

Guest teachers dharnaदिल्ली के सैकड़ों गेस्ट टीचर अपनी लंबित मांगों को लेकर आंदोलन कर रहे हैं। इस सिलसिले में 4-7 मार्च के बीच दिल्ली के उपराज्यपाल के यहां धरना दिया है। इससे पूर्व, 1-3 मार्च को उपमुख्यमंत्री व शिक्षामंत्री के आवास पर धरना दिया।

विदित रहे कि पूर्व के वर्षों में गेस्ट टीचर्स का कॉन्ट्रैक्ट मई 10 तक चलता रहा है परंतु इस बार गेस्ट टीचर्स की सेवा फरवरी मे ही समाप्त कर दी गयी और गेस्ट टीचर्स का रिन्यूअल भी नही हुआ, जिस कारण लगभग 25000 गेस्ट टीचर्स बेरोज़गार हो गए हैं।

सक्रिय आंदोलनकारी गेस्ट टीचर, डा. रचना ने मज़दूर एकता लहर को बताया कि 2017 में दिल्ली सरकार में विधानसभा में गेस्ट टीचरों को स्थाई करने तथा संवर्धित वेतनमान देने के संबंध में एक बिल पेश किया था। उन्होंने यह भी याद दिलाया कि दिल्ली सरकार ने बीते 4 सालों से गेस्ट टीचरों को स्थाई करने के अपने वादे को पूरा नहीं किया है। इसीलिये 2009 से दिल्ली के सरकारी स्कूलों में कार्यरत हजारों गेस्ट टीचर धरना देने पर मजबूर हो गये हैं। उनकी मांग है कि उनके लिये 60 वर्ष की उम्र तक स्थायी नौकरी सुनिश्चित की जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *