वेदांता प्लांट में हिंसक झड़पों में 2 लोगों की मौत

मीडिया में आ रही रिपोर्ट के अनुसार, ओडिशा के कालाहांडी जिले में वेदांता के प्लांट के बाहर 18 मार्च, 2018 को हुई हिंसक घटना में दो लोगों की मौत हो गयी। इसमें से एक व्यक्ति ओडिशा इंडस्ट्रियल सिक्युरिटी फोर्स का जवान था। 30 अन्य लोग भी इस घटना में घायल हुए हैं।

वेदांता के ऑफिस के बाहर लगभग 500 आदिवासी विरोध प्रदर्शन कर रहे थे, जब राज्य के ओडिशा इंडस्ट्रियल सिक्युरिटी फोर्स के जवानों ने बिना किसी उकसावे के उन पर हमला कर दिया। उन पर शारीरिक हमला किया गया। प्रदर्शनकारियों में आप-पास के तीन गांवों के लोग थे जिन्होंने वेदांता प्लांट को अपनी ज़मीन दी थी और अब उम्मीद कर रहे थे कि वेदांता कंपनी स्थानीय लोगों के लिए नौकरी देगी और पास ही लंजीगढ़ गांव में वेदांता द्वारा चलाये जा रहे स्कूल में उनके बच्चों के लिए मुफ्त शिक्षा का इंतजाम करेगी।

मीडिया में आ रही रिपोर्ट के अनुसार, ओडिशा के कालाहांडी जिले में वेदांता के प्लांट के बाहर 18 मार्च, 2018 को हुई हिंसक घटना में दो लोगों की मौत हो गयी। इसमें से एक व्यक्ति ओडिशा इंडस्ट्रियल सिक्युरिटी फोर्स का जवान था। 30 अन्य लोग भी इस घटना में घायल हुए हैं।

वेदांता के ऑफिस के बाहर लगभग 500 आदिवासी विरोध प्रदर्शन कर रहे थे, जब राज्य के ओडिशा इंडस्ट्रियल सिक्युरिटी फोर्स के जवानों ने बिना किसी उकसावे के उन पर हमला कर दिया। उन पर शारीरिक हमला किया गया। प्रदर्शनकारियों में आप-पास के तीन गांवों के लोग थे जिन्होंने वेदांता प्लांट को अपनी ज़मीन दी थी और अब उम्मीद कर रहे थे कि वेदांता कंपनी स्थानीय लोगों के लिए नौकरी देगी और पास ही लंजीगढ़ गांव में वेदांता द्वारा चलाये जा रहे स्कूल में उनके बच्चों के लिए मुफ्त शिक्षा का इंतजाम करेगी।

2004 में वेदांता एलुमिना कंपनी ने रंगोपली, पोटागड़ा, बुंदेल, बंधूगुड़ा और अन्य गांवों की लगभग 3,000 एकड़ जमीन का अधिग्रहण किया था और इसके बदले में स्थानीय लोगों को नौकरी देने का वादा किया था। कंपनी के अधिकारियों ने गांव के बच्चों के लिए मुफ्त शिक्षा देने का भी वादा किया था। लेकिन कंपनी ने अभी तक किसी भी वायदे को पूरा नहीं किया है।

प्लांट के सामने प्रदर्शन कर रहे लोगों में कंपनी के मज़दूर भी थे जो एक स्थानीय मज़दूर को कंपनी से बर्खास्त किये जाने के खि़लाफ़ प्रदर्शन कर रहे थे।

ओडिशा के वेदांता प्लांट के सामने हुई यह घटना तमिलनाडु में वेदांता कॉपर स्मेल्टर प्लांट के सामने प्रदर्शन कर रहे लोगों पर हुई पुलिस की गोलीबार की घटना के 10 महीने बाद हो रही है। तमिलनाडु की उस घटना में 13 लोगों की जानें गयी थीं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *