आयुध निर्माण फैक्ट्रियों के कर्मचारियों का निजीकरण के ख़िलाफ़ हड़ताल का आह्वान

देशभर की आयुध निर्माण (ऑर्डनन्स) फैक्ट्रियों के कर्मचारियों ने रक्षा उत्पादन क्षेत्र के निजीकरण के ख़िलाफ़ आवाज़ उठाने के लिए 20 अगस्त से एक महीने की हड़ताल का आह्वान किया है। देशभर में अलग-अलग तरह से विरोध प्रदर्शन करने के अलावा, आयुध निर्माण फैक्ट्रियों के कर्मचारियों ने 20 अगस्त को संसद के सामने भूख हड़ताल करने का आह्वान भी किया है।

Ordnance factoryआल इंडिया डिफेन्स एम्प्लाइज फेडरेशन, इंडियन नेशनल डिफेन्स वर्कर्स फेडरेशन और भारतीय प्रतिरक्षा मज़दूर संघ जो देशभर के 41 आयुध निर्माण फैक्ट्रियों के मज़दूरों का प्रतिनिधित्व करती है, इन सभी यूनियनों ने मिलकर इस हड़ताल का आह्वान किया है। यह यूनियन ऑर्डनेन्स फक्टोर्ट बोर्ड (ओ.एफ.बी.) और डायरेक्टरेट ऑफ़ क्वालिटी अशोरंस (डी.जी.क्यू.ए.) के सभी कर्मचारियों का प्रतिनिधित्व करती है। 30 जुलाई को किये गए जनमत संग्रह में 75 प्रतिशत मज़दूरों ने हड़ताल के समर्थन में अपना मत दिया था।

विरोध प्रदर्शन कर रहे कर्मचारी सरकार की उस योजना का विरोध कर रहे हैं जिसके तहत ऑर्डनेन्स फैक्ट्री बोर्ड को एक निगम में बदल दिया जायेगा और आगे चलकर पूरे रक्षा उत्पादन को निजी कंपनियों को सौंप दिया जायेगा। इसके पीछे सरकार का यह इरादा है कि यह निगम दुनियाभर की विशाल कंपनियों जैसे लॉकहीड मार्टिन और बी.ए.ई. सिस्टम्स की तरह काम करे।

रक्षा मंत्रालय को भेजे गए कई ज्ञापनों में आयुध निर्माण फैक्ट्रियों के कर्मचारियों ने इस बात पर ज़ोर दिया है कि रक्षा उत्पाद देश के लिए रणनैतिक तौर पर महत्वपूर्ण हैं और इसको निजी कंपनियों के हाथों में नहीं सौंपा जाना चाहिए। गृह मंत्रालय को लिखे गए एक पत्र में आयुध निर्माण फैक्ट्रियों की ट्रेड यूनियनों ने ऐलान किया है कि सरकार जो क़दम उठा रही है वह “रक्षा मंत्रालय द्वारा तीन मान्यता प्राप्त ट्रेड यूनियनों को किये गए वादों के ख़िलाफ़ है”। उन्होंने सरकार से अपील की है कि आयुध निर्माण फैक्ट्रियों के निगमीकरण की ओर बढ़ते क़दमों को “तुरंत रोका जाये”।

इस वर्ष में निजीकरण के ख़िलाफ़ आयुध निर्माण फैक्ट्रियों के मज़दूरों की यह दूसरी हड़ताल है। इससे पहले, 23 जनवरी को देशभर के करीब 4 लाख आयुध निर्माण फैक्ट्रियों के मज़दूरों ने महाराष्ट्र में अंबरनाथ और कांदिवली, नौसेना बंदरगाह और मिलिट्री इंजीनियरिंग सर्विसेज और अन्य ऑर्डनेन्स प्लांट और संस्थाओं में आयोजित हड़ताल और विरोध प्रदर्शन में हिस्सा लिया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *