पुरानी पेंशन योजना बहाली के लिये आंदोलन

नेशनल मूवमेंट फोर ओल्ड पेंशन आंदोलन समिति के सदस्यों ने पुरानी पेंशन योजना को बहाल करने की मांग को लेकर, 8 अगस्त, 2019 को हनुमानगढ़ जिला कलेक्ट्रेट के कार्यालय के समक्ष विरोध प्रदर्शन किया। हनुमानगढ़ जंक्शन पर भी इस मांग को लेकर, समस्त कर्मचारी संगठन राजस्थान के तत्वावधान एक विरोध प्रदर्शन आयोजित किया गया।

कलेक्ट्रेट के कार्यालय पर दोपहर एक से तीन बजे तक 18 संगठनों के प्रदर्शनकारियों ने जनसभा की। सभा में वक्ताओं ने आंदोलन की हुंकार भरते हुये कहा कि सरकार जब तक पुरानी पेंशन योजना को पुनः बहाल नहीं करती, तब तक सरकारी कर्मचारी संगठन बार-बार अपना विरोध प्रकट करते रहंेगे। दोपहर तीन बजे कर्मचारियों ने प्रधानमंत्री के नाम, जिला कलेक्टर को एक ज्ञापन सौंपा।

Pension Meeting

ज्ञापन में कर्मचारियों ने बताया कि 1 जनवरी, 2004 के बाद राजस्थान के 4 लाख सरकारी कर्मचारियों सहित देश के 65 लाख सरकारी कर्मचारियों के बुढ़ापे की पंेशन को केन्द्र और राज्य सरकारों ने बंद कर दिया है। नवीन पेंशन योजना में पेंशन की कोई गारंटी नहीं है और पेंशन संबंधित बहुत सी अनिश्चिततायें हैं। नई पेंशन योजना में निवेशित फंड पर बड़े-बड़े कार्पाेरेट घरानों की नज़र टिकी हुई है, और उनका मकसद है मज़दूरों को मिलने वाले वृद्धावस्था के सहारे के धन को लूटकर अपनी तिजौरियां भरना। इसमें सरकार नई पेंशन योजना को लाकर, कार्पाेरेट घरानों के हित में काम कर रही है। इसीलिये सरकारी कर्मचारी नई पेंशन योजना को ख़त्म करने और पुरानी पेंशन योजना को पुनः लागू करवाने के लिये कानून पारित करवाने की मांग कर रहे हैं।

जनसभा को लोक राज संगठन के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष गुरु जी हनुमान प्रसाद शर्मा समेत, राजस्थान शिक्षक संघ प्रगतिशील के जिला अध्यक्ष राम लुभाया तिन्ना, संघर्ष समिति के जिला अध्यक्ष, पटवार संघ जिला अध्यक्ष, राजस्थान भू अभिनिरिक्षक संघ, प्रबोधक संघ, राजस्थान राजस्व लेखा संघ, राजस्थान ग्राम विकास अधिकारी संघ, राजस्थान मंत्रालय कर्मचारी संघ के प्रतिनिधियों व कार्यकर्ताओं ने संबोधित किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *